New Delhi | Jagran Lifestyle Desk: Bakri Eid is also known as 'Eid al-Adha' is one of the major Islamic festivals which is celebrated by Muslims across the world. This special festival is observed to honour Prophet Ibrahim, who offered to sacrifice his 13-year-old son Ismail as gratitude to Allah. However, as soon as Ibrahim was about to sacrifice his son, he was stopped by the almighty who instead of the boy then provided a sheep for the ritual of sacrifice. This is the reason Bakri-Eid is also called Eid al-Adha or the "Festival of the Sacrifice" to honour Ibrahim by sacrificing an animal as a ritual. Therefore, on this auspicious occasion, here we are with a list of beautiful shayaris which you can share with your close friends and family:

हर ख्वाहिश हो मंजूर-ए-खुदा, मिले हर कदम पर रजा-ए-खुदा, फना हो लब्ज-ए-गम यही है दुआ, बरसती रहे सदा रहमत-ए-खुदा

ईद लेकर आती है ढेर सारी खुशियां, ईद मिटा देती है इंसान में दुरियां, ईद है खुदा का एक नायाम तबारोक, इसीलिए कहते हैं ईद मुबारक

आया है आज का दिन ये मुबारक,
सजी है रंगोंकों की महफिल हर तरफ,
ईद है उस खुदा का नायाब तोहफा,
आप सब को हमारी तरफ से बकरीद मुबारक!!

दिए जलते और जगमगाते रहें
हम आपको इसी तरह याद आते रहें
जब तक ज़िंदगी है ये दुआ है हमारी
आप ईद के चाँद की तरह जगमगाते रहें
आपको बकरा ईद मुबारक हो

तमन्ना आपकी सब पूरी हो जाए,
हो आपका मुकद्दर इतना रोशन की,
आमीन कहने से पहले ही आपकी हर दुआ कबूल हो जाए।।
बकरीद मुबारक

ईद लेकर आती है ढेर सारी खुशियां,
ईद मिटा देती है इंसान में दूरियां,
ईद है खुदा का एक नायाम तबारोक,
इसीलिए कहते है ईद मुबारक।।

चुपके से चांद की रोशनी छू जाए आपको,
धीरे से यह हवा कुछ कह जाए आपको,
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से,
हम दुआ करते हैं मिल जाए वह आपको!!
Happy Bakrid!!

ईद का त्यौहार आया है,
खुशियां अपने संग लाया है,
खुदा ने दुनिया को महकाया है,
देखो फिर से ईद का त्यौहार आया है..
Bakr Eid Mubarak

eid kā din hai gale aaj to mil le zālim
rasm-e-duniyā bhī hai mauqa.a bhī hai dastūr bhī hai

mil ke hotī thī kabhī eid bhī dīvālī bhī
ab ye hālat hai ki Dar Dar ke gale milte haiñ

tujh ko merī na mujhe terī ḳhabar jā.egī
eid ab ke bhī dabe paañv guzar jā.egī

eid aa.ī tum na aa.e kyā mazā hai eid kā
eid hī to naam hai ik dūsre kī diid kā

ai havā tū hī use eid-mubārak kahiyo
aur kahiyo ki koī yaad kiyā kartā hai

dekhā hilāl-e-eid to aayā terā ḳhayāl
vo āsmāñ kā chāñd hai tū merā chāñd hai

kahte haiñ eid hai aaj apnī bhī eid hotī
ham ko agar mayassar jānāñ kī diid hotī

Posted By: Sanyukta Baijal